Dedicated to my wife…

Read on to know what happens to men who marry in India

Posts Tagged ‘rights’

Balm for men

Posted by iluvshrutiverma on May 25, 2010

ASK someone about the problems of women, and a list would emerge that would never seem to end. Ask about men’s problems, and you see only blank faces. Does that mean that men do not have any problem? Or is it that there is no awareness amongst the general public? Or is it just that men are simply taken for granted? If Uma Challa had her way, she would strive to bring in changes.

The All-India Men’s Welfare Association wants laws to be enacted to protect men from harassment

http://www.tribuneindia.com/2010/20100523/spectrum/main4.htm

Advertisements

Posted in Uncategorized | Tagged: , , , , , , , , | 5 Comments »

A man’s rights in India

Posted by iluvshrutiverma on February 25, 2010

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

All the rights that a man has in India are listed above.

Can’t see anything? That is because there are no rights for men in India.

Only women have rights and these rights have been given to them by men only.

http://wp.me/plC3a-c1

Posted in Uncategorized | Tagged: , , , , , | 1 Comment »

It’s a man’s world

Posted by iluvshrutiverma on February 23, 2010

Time and again, I have heard that it is a man’s world.

A man is murdered every 19 minutes as opposed to a woman every 66 minutes. The number of men committing suicide is twice the number of women committing suicide. At home, men are twice as likely to be driven to commit suicide as compared to women. Outside home, men are getting murdered three times as compared to women.

82% of the taxes collected by the Government are contributed by men and Rupees 11,400 Crore is spent annually on women’s welfare. Not even a single rupee has been spent on men’s welfare in the last 60 years the country has been independent. There is a ministry for women and a ministry for children. There are protection laws for almost everyone and everything – including women, soil, animals, fisheries, forest etc. The only entity inconspicuously missing from the large list is men.

Talking about protection, even the domestic violence laws of the nation are gender biased. Only a woman can seek relief from the court under the recently enacted domestic violence act.

On the complaint of women, even 2 month babies have been arrested by the police for causing extreme mental harassment to women.

In the court of law, men are presumed to be guilty unless proven innocent. And given the abysmally slow pace of legal proceedings, it takes decades before a man can prove his innocence.

Adultery is a crime for men while women can legally do it. What is more interesting is the fact that women can now claim alimony from their illicit partner as well. By the way, unlike countries like USA where alimony is only for long lasting marriages and for a specific period of time, in India women are entitled to life-long alimony payments even if the marriage lasted 1 day.

Indian courts, including the Supreme Court of India, routinely forgive women for contempt of court and perjury because of their gender.

Any un-natural death of a woman within 7 years of marriage sends her husband to jail automatically. The most common cause of an un-natural death is suicide; and we already discussed that men are twice as likely to commit suicide as compared to women.

1.12 males are born to every female. The ratio declines to 1.10 by the age of 15; to 1.06 in the age group 15 – 64; and 0.90 for the age group 65 and above. This seems to imply that girls are either genetically superior to boys OR they are protected and men are made to do all the hazardous tasks.

As a matter of fact, worldwide women live on an average 5 – 7 years longer as compared to men. Still, the importance given to women’s health is many times more as compared to men’s health.

Talking about women’s issue is in vogue but people ridicule when a person talks about men’s issues. Hence there are hardly any opinion articles written about men. I personally spoke to an editor of a well known Indian national newspaper and he said “I agree with you in principle but I will not be able to publish any of your views. They are anti-women and the women will sit outside my home on a hunger strike”.

So, people are scared of women, and perhaps because of valid reasons. Last year, women activists forced their way into a High Court and broke the wooden chair on which the judge used to sit because he delivered a judgment in the favor of a husband in a matrimonial dispute.

Talking about the courts, a few months back a Supreme Court judge, while deciding on a matrimonial dispute, clearly told the man “Do as your wife tells you. If she says look this side then you look this side. If she says look that side then look that side. We all have suffered”.

The president of India is a woman and the most powerful politician in the country is also a woman. And still they say it is a man’s world!

http://wp.me/plC3a-bY

Posted in Uncategorized | Tagged: , , , , , , , , , , , , | 5 Comments »

Women empowerment project successful

Posted by iluvshrutiverma on February 18, 2010

Hello WCD, NCW and other feminists,

Looks like your Women Empowerment project is successful.

http://epaper. sakshi.com/ Details.aspx? id=383438& boxid=29635926

Translated version:Alleging that “We are given sleeping pills to make us
sleep so that she can enjoy her carnal pleasures. She continues illicit
relationship with others when our father is not at home. When told to mend
her behaviour, she, alongwith our father, necked us out. Save us from the
attrocities of our mother,” 3 children knocked the SHRC. K.Sravani(11) ,
K.Vani(9) & K.Renuka(7) from RTC Colony, Guntur complained to the
commission. And mentioned in the complaint that “Our father Chandrasekhar
works as Home Guard in Donakonda Police Station. Mom works as sweeper in a bank there. When our father is away on night duty, many people would visit
our house. When asked as to why she is doing so in front of the kids, she
threatened to kill us. Joining hands with father, she necked us out. We fear
that she & her paramour would kill us. She caused harm to our grandfather
who gave shelter to us. Save us from her and admit us in a school.”

Sakshi, Hyderabad city edition, Page 6.

Posted in Uncategorized | Tagged: , , , , , , , , | 4 Comments »

Defeating Feminism Videos

Posted by iluvshrutiverma on December 25, 2009

Defeating feminism – Part1

Defeating feminism – Part2

Defeating feminism – Part3
Look at how at 3.55 minutes, the first blog he talks about is from India – All India Men’s welfare association 🙂

Posted in international | Tagged: , , , , , , | Leave a Comment »

पत्नियों से ज्यादा पीड़ित पति

Posted by iluvshrutiverma on November 21, 2009

Commando Rajesh Vakaria from Nagpur is in news again.

Earlier it was the following video:

This time it is the following article:

http://www.visfot.com/index.php/news_never_die/2038.html

अभी तक ज्यादातर महिलाओं पर अत्याचार के मामले सामने आते रहे हैं। इसे रोकने के लिए सशक्त कानून भी बनाए गए हैं। समय बदल रहा है। महिला सशक्तिकरण के जमाने में अब पति पत्नी से पीडि़त हैं। चाहे वे पत्नी के लगाए गए दहेज प्रताडऩा और घरेलू हिंसा के झूठे आरोप हों या फिर घर में आपसी कलह। पत्नी पीिड़ता कहां जाए? न कोई हमदर्दी न कोई सरकारी मदद। नतीजा? पीड़ित पतियों के आत्महत्या का अनुपात पीड़ित पत्नियों से दोगुना है.

इस तथ्य पर बाद में आते हैं लेकिन पहले आपको यह बताते हैं कि 19 नंवबर को तंग पति अंतरराष्ट्रीय पति दिवस के रूप में मनाते हैं। पार्टी करके। बैठक करके। फिल्म देखकर। कुछ पीड़ितों का समूहिक पिकनिक मनाकर एक दिन खुशियों को जी रहे हैं। अपने लिए शायद वैसा दिन पत्नी के साथ फिर कभी नहीं जी पाएंगे। हकीकत बदल रही है। यकीन मानिये जितनी हिंसा महिलाओं के साथ हो रही है, वैसी ही हिंसा पुरुषों के साथ हो रही है। दो वर्ग बन गए हैं। एक ओर जहां पति पत्नी को पीटता है, वहीं दूसरे वर्ग में पत्नी से पति पीडित होकर दिल में टीस लिए जिंदगी से हर आस छोड़ रहा है।

पहली बार त्रिनिदाद और टोबैगो में 1999 में 19 नवंबर को अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस के रूप में मनाया गया। भारत में इसी शुरुआत 2007 से हुई। पत्नी से प्रताडि़त होने के मामले में देश का कोई शहर अछूता नहीं है। बस अंतर इतना है कि महिलाओं से जुड़ी हिंसा को मीडिया ज्यादा कवरेज देता है। पीड़ित पति शर्म संकोच से कहीं नही जाते हैं। करीब डेढ़ दशक पूर्व दिल्ली के विभिन्न इलाकों में कई जगह लिखा हुआ मिलता था – पत्नी सताएं तो हमे बताएं, मिले नहीं लिखें। अब वो तख्ती तो नहीं दिखती है, लेकिन पीड़ित बढ़ गए हैं.

आए दिन शादीशुदा पुरुषों की आत्महत्या के मामले प्रकाश में आते हैं। पर इसके पीछे की सच्चाई से बहुत कम ही लोग ही रू-ब-रू हो पाते हैं। कई बार इन कानूनों का दुरुपयोग कर पत्नी पति को प्रताड़ित करती है। इससे तंग आकर अनेक लोगों ने आत्महत्या की राह चुनी है।

वर्षों गुजर गए। पत्नी पीड़ितों के समूह ने संगठित होकर सरकार से लगातार संघर्ष कर देहज उत्पीडन के कानून 498-ए में बदलाव कर इस जमानती बनाने की मांग कर रहा है। बदलाव के लिए सरकार विचार कर रही है। संगठन अलग पुरुष कल्याण मंत्रालय की मांग कर रहे हैं। पुरुषों के पक्ष में दस्ताबेज जुगाड़ कर सरकार के पास ज्ञापन भेजकर लगातार दवाब बना रहे हैं। कई शहरों में पत्नी पीडि़तों का समूह कही चुपचाप तो कहीं खुलेआम बैठक करते हैं। एक-दूसरे की समस्या सुनते हैं और सहयोग करते हैं। जब नया पीड़ित आता है तो उनकी काउंसलिंग होती है जिससे कि वह आत्महत्या न कर सके।

पत्नी पीड़ित राजेश बखारिया दहेज उत्पीडऩ कानून के चक्कर में वर्षों से कोर्ट के चक्कर काटते-काटते इस अपने जैसे दूसरे पीड़ितों का दु:ख दर्द बांटते हैं। सहयोग करते हैं। कहते हैं कि अब तो नई नवेली दुलहन भी छोटी-छोटी बात पर दहेज विरोधी काननू का हवाला देकर घर-परिवार में वर्चस्व जमाने की कोशिश करती हैं। खेद की बात है कि जैसे ही पत्नी आरोप लगाती है और बात थाने तक पहुंचती है और मामला दर्ज होता है तो पति को जेल जाना पड़ता है। वह घोर अवसाद का शिकार हो जाता है। पत्नी की हरकतों से बेटे-भाई की जिंदगी में पडऩे वाली खलल से कई मां-बहनों का दिल टूटा है। युवा पति कोर्ट-कचहरी के चक्कर काटते-काटते अधेड़ हो रहे हैं। लिहाजा, इस चक्कर में पड़े अधिकतर लोग आत्महत्या को अंतिम विकल्प मान लेते हैं। क्योंकि जैसे ही पत्नी के अरोप पुलिस दर्ज करती है, नौकरी चाहे सरकारी हो या निजी चली जाती है।

श्रम और रोजगार मंत्रालय के वर्ष 2001-05 के जारी आंकड़ों के मुताबिक निजी और सार्वजनिक क्षेत्रों से करीब 14 लाख लोगों को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा। कई सर्वे व जांच में यह बात सामने आ चुकी है कि आईपीसी की धारा 498 ए का बड़े पैमाने पर दुरुपयोग हो रहा है। इसके तहत कई पतियों पर दहेज के लिए पत्नी को प्रताड़ित करने के झूठे अरोप लगे हैं। दो साल पूर्व लागू घरेलू हिंसा उन्नमूलन कानून 2005 से तो महिलाओं को और ताकत दे दी है। उच्चतम न्यायालय ने वर्ष 2006 में एक सिविल याचिका 583 में यह टिप्पणी की थी कि इस कानून को तैयार करते समय कई खामियां रह गई हैं। उन खामियों का फायदा उठा कर कई पत्नियां पति को धमका रही हैं। उन्होंने बताया कि आंकड़े देखें तो औसतन जहां हर 19 मिनट में देश में किसी व्यक्ति की हत्या होती है, वहीं हर 10 मिनट में एक विवाहित व्यक्ति आत्महत्या करता है। वर्ष 2005-07 के आंकड़ों के मुताबिक दहेज उत्पीडऩ मामले में कानून की धारा 498-ए, के तहत 1,39,058 मामले दर्ज हुए।

पत्नी पीड़ितों की एक संस्था सेव इंडिया फैमिली फउंडेशन पत्नी पीड़ितों को काउंसलिंग से मामले सुलझाने की कोशिश करता है। फाउंडेशन सरकार पर लगातार स्वतंत्र रूप से पुरुष कल्याण मंत्रालय बनाने की मांग कर रहा है। श्री बखारिया का कहना है कि यदि पत्नी किसी भी कारण से आत्महत्या करती है तो पुलिस तुरंत केस दर्ज कर आरोपियों को हवालात में ले लेती है। घर घरेलू कलह से तंग आकर पति आत्महत्या करता है तो पत्नी से पूछताछ तक नहीं होती है। पत्नी के प्रताड़ित करने के अधिकतर मामले साल 2000 से तेजी से बढ़े हैं। इसका प्रमुख जिम्मेदार टीवी पर प्रसारित होने वाले कुछ धारावाहिक हैं जिनकी अनाप-शनाप कहानी में नकारात्मक छवि वाली महिला पात्रों ने समाज में गलत असर छोड़ा है। लड़कों वालों में वधु पक्ष के परिवार के अनावश्यक हस्तक्षेप बढ़ा है जिससे महिलाओं में अहम आ जाता है।

देश में आत्महत्या के मामले वर्ष 2005-07
विवाहित पुरुष    विवाहित महिलाएं
1,65,528      88,128

आत्महत्या का अनुपात प्रतिशत
विवाहित पुरुष    विवाहित महिलाएं
65.25           34.75

Posted in Hindi | Tagged: , , , , , , , , , , , | 2 Comments »