Dedicated to my wife…

Read on to know what happens to men who marry in India

पुरुष भी हैं घरेलू हिंसा का शिकार

Posted by iluvshrutiverma on October 13, 2009

लुधियाना . स्वतंत्र आवाज वेलफेयर आग्रेनाइजेशन ने दहेज व घरेलू हिंसा कानून के दुरुपयोग के मसले उठाए है। आग्रेनाइजेशन के अनुसार पिछले पांच वर्षो के दौरान देश में दहेज प्रताड़ना के मात्र दो प्रतिशत मामले ही साबित हो पाए हैं। साफ जाहिर है कि इस कानून का दुरुपयोग रहा है। पुरुष भी घरेलू हिंसा का शिकार हो रहे हैं, लेकिन विडंबना है कि कानून उनकी इस शिकायत पर गौर नहीं कर रहा है।

अगर एक महिला अपने पति या ससुरालियों के खिलाफ थाने में दहेज उत्पीड़न की झूठी शिकायत भी दे देती है, तो पुलिस बिना जांच उस पूरे परिवार को उठा लाती है। बिना कसूर परिवार को जेल में रहना पड़ता है। महिला सशक्तिकरण के लिए सरकारें काम कर रही हैं और कानून भी महिलाओं के हक में बनाए गए हैं, लेकिन दहेज उत्पीड़न में वृद्ध महिलाएं व अविवाहित लड़कियां भी कष्ट झेलती हैं। ऐसे कई केस हैं जब रंजिशन दर्ज कराए मामलों में किशोर सदस्यों को भी जेल में धकेल दिया जाता है।

आग्रेनाइजेशन के सदस्य गौरव सैनी के अनुसार वह संसद को इस बारे में ज्ञापन भेज कर संशोधन के लिए आग्रह करेंगे। गौरव सैनी के मुताबिक पुलिस ऐसे मामलों को दर्ज करने में कोई जल्दबाजी दिखाए बिना पूरी जांच के बाद केस दर्ज करे। दफा 498—ए को जमानत योग्य बनाया जाए। वह पंजाब में करीब 500 परिवारों के केसों का ब्यौरा एकत्रित कर चुके हैं। उन्होंने पीड़ित परिवारों के लिए हेल्प लाइन भी जारी की है।

Advertisements

4 Responses to “पुरुष भी हैं घरेलू हिंसा का शिकार”

  1. vipin sharma said

    I want to support you in dowry case.

    • iluvshrutiverma said

      Thank you Vipin.

      I have already won some of my court cases. It is now just a matter of time before I win the rest. In fact, I think my wife needs help in our personal war. So, I am doing good there.

      If you would like to support, then help me in fighting against the gender-bias in the society. Everywhere around me, I see women getting special treatment, this has to stop.

      Thanks

  2. prakash said

    me bhi apni patni duwar kiye gaye zhote aropo me fash hua hun
    or mere se 20 Rs. Lac magti hai. nahi to me humhe or tumahre pariwar walo ko jail me sadwa dungi.
    me ek privait noukri karta hun or meri salary itni nahi hai ki me use ye sab de sakum.
    esliye usne muze or mere pariwar ko dhahej or gharelo ahunsha kesh laga deyi hai
    appki muze bhi jarurt hai
    Thnaks
    Prakash

    • iluvshrutiverma said

      Hi, you can not get arrested if you have anticipatory bail (AB). The primary difficulty in getting AB is a ‘reasonable fear of arrest’. If you can prove to the court that you have a reasonable fear of arrest, then getting AB is not difficult.

      Read other comments on my blogs (one person today only has mentioned that his AB is rejected).

      Regards

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: